मायवती कर रहीं लोकतंत्र व संविधान की हत्याःस्वामी प्रसाद मौर्य

DD 24  न्यूज़

फर्रूखाबाद: प्रदेश सरकार के श्रमसेवा योजना मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता स्वामी प्रसाद मौर्य का मानना है कि बसपा सुप्रीमो एवं उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती पैसे की हवस में अंधा होकर भारतीय लोकतंत्र एवं संविधान की हत्या कर रही हैं, जिससे महसूस होता है कि मायावती देश से किसी भी समय कहीं भी चम्पत हो सकती है।
श्री मौर्य शुक्रवार को अपरान्ह करीब 3 बजे शहर के आवास विकास कालोनी स्थित प्रोफेसर शैतान सिंह के आवास पर भोजन से पूर्व पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। श्री मौर्य ने कहा कि दूर के ढोल सुहावने होते है, उत्तर प्रदेश में यदि लालू प्रसाद यादव जी होते तो शायद मायावती से वो भी तोड़ा कर लेते कभी समर्थन नहीं करते, चूंकि वो बिहार के है और उन्होने मायावती के असली आचरण को नहीं देखा। इसलिए हो सकता है कि उनमें मायावती के प्रति थोड़ा बहुत समर्थन उमड़ रहा हो।

उन्होने दावा किया कि मैने बहुजन समाज पार्टी छोड़ते समय कहा था कि बसपा सुप्रीमो मायावती पैसे की हवस में अंधा होकर बाबा साहब डॉ0 भीमराव अम्बेडकर के मिशन को बीच चौराहों पर नीलाम कर रही हैं तथा कांशीराम के विचारों की हत्या कर रहीं हैं, दलितों के सम्मान को बेच रहीं हैं, ऐसे मालूम हो रहा है कि वे भारतीय लोकतंत्र एवं संविधान की हत्या कर रही हैं, जिससे महसूस होता है कि मायावती देश से किसी भी समय कहीं भी चम्पत हो सकती है।

बसपा के वरिष्ठ नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी के पार्टी छोड़ने के प्रश्न पर भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं कैबिनेट मंत्री श्री मौर्य ने कहा कि किसी नेता पर बयान देना अच्छा होता है। लेकिन बसपा में एक कलेक्शन अमीन की तरह जिसने पूरी जिन्दगी कार्य करने के बाद बसपा से विदाई हुई हो उस पर कोई कमेन्ट करना मुनासिब नहीं समझता।

श्री मौर्य ने दावा किया कि बसपा पुरानी पार्टी से मेरे इस्तीफा देने के साथ ही प्रदेश की जनता ने सबक सिखा दिया। आज उत्तर प्रदेश से मायावती का बोरिया बिस्तर गोल हो गया और मायावती को दिल्ली राज्यसभा में पहुॅचाने के लाले पड़ गये। फिर भी दिल्ली में उनका आवास है इसलिये वह जाएंगी।

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में हुई हिंसक घटना के प्रश्न पर कैबिनेट मंत्री श्री मौर्य ने कहा कि कानून अपना काम कर रहा है। जिसका हाथ होगा। उसके विरूद्ध कठोर कार्यवाही होगी। जेबर-बुलन्दशहर हाईवे की घटना पर उन्होने बताया कि अपराधी पकड़ में न आए ऐसा न होगा, जो अपराधी होगा वो जेल की सलाखों के पीछे होगा, वैसे सपा सरकार ने अपराध आसामान पर थे वे आज कम हुये है। सभी गुण्डों और माफियाओं की नकेले कसीं जाएंगी और सभी अपराधी जेल जाएंगे।
श्रमसेवा योजना मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने दाव किया कि उत्तर प्रदेश में रहकर काम करने वाले असंगठित मजदूरों के लिये प्रदेश सरकार एक बोर्ड बनाकर कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पहुॅचाएगी। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पाने के लिये मजदूरों को उत्तर प्रदेश के अन्दर रहने वाला होना चाहिए। असंगठित क्षेत्र में अखबार बेचने वाले, घरों में काम करने वाली महिलाएं, खलियान में काम करने वाले लोगों को भी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिलेगा।
उन्होने बताया कि जागरूकता की कमी होने से जितनी अपेक्षा मजदूरों के पंजीयन होने की थी वो नहीं हो पा रही है। ऐसे में प्रदेश सरकार ने श्रम विभाग को निर्देश दिये है कि बड़े पैमाने पर निर्माण कार्य से संबंधित मजदूरों को, जिसमें सड़क निर्माण, भवन निर्माण आदि आते है का मौके पर पहुॅचकर सत्यापन और मजदूरों का पंजीयन करके सरकार की कल्याणकारी योजनों का लाभ पहुॅचाया जाए।

एक प्रश्न के उत्तर में उन्होने कहा कि मजदूरों के बच्चों को शिक्षा मदद योजना, पुत्री-पुत्र जन्म होने पर आर्थिक सहायता, मृत्यु होने पर अंत्येष्टि आर्थिक सहायता, किसी हादसे में मजदूर की मौत होने पर पांच लाख रूपये की आर्थिक मदद जैसी कल्याणकारी योजनाएं चलायी जा रही है।
सपा शासन में मजदूरों को साईकिल आवंटन किये जाने के प्रश्न पर कैबिनेट मंत्री श्री मौर्य ने कहा कि मजदूरों को साईकिल आवंटन योजना सपा शासन में विधायकों की सूची पर अपने-अपनों को रेवड़ियों की तरह साईकिलें बांटी गयीं। अब यह अंधेर नगरी नहीं होगी। प्रदेश सरकार इस योजना पर विचार कर रही है कि मजदूरों की पारदर्शिता के साथ साईकिलों का वितरण हो तथा पूर्व सरकार में साईकिल आवंटन योजना की जाँच कराई जा रही है।
इस अवसर पर भाजपा विधायक सुशील शाक्य, प्रोफेशर शैतान सिंह शाक्य, श्रीमती सरिता शाक्य, भाजपा जिलाध्यक्ष सत्यपाल सिंह आदि प्रमुख गणमान्य मौजूद थे।

सोशल मीडिया पर शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>